गर्भावस्था के लिए शरीर को करें तैयार

अपने शिशु को जीवन की बेहतरीन शुरुआत देने का मतलब है कि गर्भवती होने से पहले आप अपने स्वास्थ्य को इसके लिए तैयार करें। आपकी स्वास्थ्य स्थिति और आप जो दवाइयां ले रही हैं, वे सब आपकी स्वस्थ गर्भावस्था पाने की संभावनाओं को प्रभावित कर सकती हैं।

अपनी जीवनशैली में भी कुछ बदलाव करना, जैसे कि संतुलित आहार का सेवन और थोड़ा अधिक व्यायाम, फायदेमंद हो सकता है।

क्या गर्भवती होने से पहले मुझे डॉक्टर से मिलना चाहिए?

हां। गर्भवती होने से पहले डॉक्टर से मुलाकात करना बेहतर रहता है। अगर आपको कोई दीर्घकालीन चिकित्सकीय समस्या, जैसे कि मिर्गी, अस्थमा या मधुमेह है, तो डॉक्टर को दिखाना अत्यंत आवश्यक है।

हो सकता है गर्भाधान से पहले आपको अपने उपचार में कुछ बदलाव करने की जरुरत हो। ऐसा इसलिए क्योंकि कुछ तरह की दवाइयां अजन्मे शिशु के लिए नुकसानदेह होती हैं। उदाहरण के तौर पर गर्भावस्था के दौरान गंभीर मुहांसों की कुछ दवाइयां लेना सुरक्षित नहीं हैं। अगर, आप अपने उपचार में कुछ बदलाव कर रही हैं, तो आपके शरीर को इसके अनुसार व्यवस्थित होने के लिए समय चाहिए होगा।

जिस समय आप गर्भाधान करना चाहती हैं, उससे तीन महीने पहले ही आपको डॉक्टर से मिल लेना चाहिए। अगर, आपको कोई चिकित्सकीय समस्या है, तो जरुरी है कि गर्भवती होने से पहले ही इस पर यथासंभव नियंत्रण पा लिया जाए। डॉक्टर की सलाह के बिना दवाई लेना, जैसे कि आईबूप्रोफेन आदि भी सही नहीं है, क्योंकि गर्भावस्था की शुरुआत में इनका सेवन सुरक्षित नहीं है।

गर्भाधान से पहले डॉक्टर से मुलाकात के दौरान क्या होगा?

डॉक्टर के साथ यह मुलाकात अपनी स्वास्थ्य समस्याओं और चिंताओं के बारे में बात करने का अच्छा अवसर है।

डॉक्टर आपसे शायद निम्न चीजों के बारे में सवाल करेंगी:

  • आपका स्वास्थ्य और जीवनशैली
  • आपकी खान-पान की आदतें
  • माहवारी से जुड़ी कोई समस्या
  • आप कितना व्यायाम करती हैं
  • क्या आपकी नौकरी में खतरनाक पदार्थों के साथ काम करना शामिल है
  • आपकी स्वास्थ्य स्थिति, जैसे कि क्या आप अवसाद (डिप्रेशन) से ग्रस्त हैं, या पहले कभी आपको अवसाद रहा है

अगर आपका वजन ज्यादा है और बॉडी मास इंडेक्स (बी.एम.आई.) 23 या इससे अधिक है, तो डॉक्टर आपको वजन कम करने की सलाह देंगी। वजन घटाने से आपकी गर्भाधान की संभावनाएं बढ़ सकती है और आप अपनी गर्भावस्था की सेहतमंद शुरुआत कर सकती हैं।

अगर, आपका वजन कम है, तो डॉक्टर से बी.एम.आई. बढ़ाने के सेहतमंद उपायों के बारे में बात करें। यदि आपका वजन कम है, तो माहवारी चक्र अनियमित रहने की संभावना अधिक होती है। अगर, आपकी माहवारी चूक जाती है, तो आप हर माहवारी चक्र के दौरान डिंब जारी नहीं कर पाएंगी। स्वस्थ बी.एम.आई. 18.5 और 22.9 के बीच होता है।

डॉक्टर आपकी वर्तमान स्वास्थ्य समस्याओं के बारे में भी जानना चाहेंगी, जैसे कि:

  • मधुमेह
  • अस्थमा
  • उच्च रक्तचाप (ब्लड प्रेशर)

आपके स्वास्थ्य और लक्षणों को देखते हुए डॉक्टर थायरॉइड के निम्न स्तर, पी.सी.ओ.एस., यूटेरिन फायब्रॉइड और एंडोमेट्रियोसिस की संभावनाओं के लिए भी जांच करवा सकती हैं।

निम्नांकित बातों के बारे में जानकारी होना भी डॉक्टर के लिए मददगार हो सकता हैं, जैसे कि:

  • आपके परिवार की अनुवांशिक स्थितियों के बारे में जानकारी। अगर, आपके परिवार में डाउंस सिंड्रोम, सिकल सेल रोग, थैलेसीमिया या सिस्टिक फायब्रोसिस का इतिहास रहा है, तो इस बारे में भी डॉक्टर को बताएं। वे आपको आगे के लिए सहयोग और सलाह दे सकती हैं।
  • आपके गर्भनिरोधन के बारे में जानकारी। अधिकांश गर्भनिरोधकों का इस्तेमाल बंद करने पर, वे गर्भाधान में लगने वाले समय को प्रभावित नहीं करते हैं। मगर, यदि आप गर्भनिरोधक इंजेक्शन का इस्तेमाल कर रहीं थीं, तो अंतिम इंजेक्शन के बाद आपकी प्रजनन क्षमता वापस आने में एक साल तक का समय लग सकता है।

डॉक्टर आपसे पिछले गर्भपात, गर्भस्त्राव या अस्थानिक गर्भावस्थाओं के बारे में भी पूछ सकती हैं। इन दर्दभरे अनुभवों को दोबारा दोहराना आपके लिए मुश्किल हो सकता है। मगर, ध्यान रखें कि आपके साथ पहले जो कुछ भी हुआ है उसकी जानकारी डॉक्टर को आपकी बेहतरीन देखभाल करने में मदद करेगी।

क्या मुझे किसी चिकित्सकीय टेस्ट की जरुरत होगी?

यह आपकी परिस्थितियों और सामान्य स्वास्थ्य पर निर्भर करेगा। डॉक्टर आपको निम्नांकित टेस्ट या जांचें करवाने की सलाह दे सकती हैं:

खून की जांच

अगर, आपकी डॉक्टर को यह लगता हो कि आपको एनीमिया हो सकता है, तो वह आपको खून की जांच करवाने की सलाह देंगी।

आपकी प्रजातीय पृष्ठभूमि और चिकित्सकीय इतिहास को देखते हुए, आपको आनुवांशिक विकारों जैसे कि सिकल-सेल एनीमिया, टे-साक्स रोग और थैलेसीमिया आदि के लिए भी जांच करवानी पड़ सकती है।

यदि आप सुनिश्चित नहीं हैं कि आप रुबेला से प्रतिरक्षित हैं या नहीं, तो इसका पता करने के लिए आपको खून की जांच करवानी पड़ेगी।

डॉक्टर टोक्सोप्लाज्मोसिस के लिए भी आपकी जांच करवा सकती हैं। एक साधारण रक्त जांच से पता चल सकता है कि आपको पहले यह रोग हुआ है या नहीं। अगर, आपको पहले टोक्सोप्लाज्मोसिस हो चुका है, तो यह दोबारा नहीं हो सकता।

पेशाब की जांच

पेशाब में विशेष तत्वों की मौजूदगी डॉक्टर को किसी समस्या के शुरुआती संकेत दे सकती हैं। यह समस्या आगे चलकर आपके या आपके शिशु के लिए परेशानी पैदा कर सकती है। अगर, आपको मूत्रमार्ग संक्रमण (यू.टी.आई.) होने की जरा भी संभावना हो, तो आपको पेशाब की जांच कराने के लिए कहा जाएगा।

इसलिए अगर आपकी डॉक्टर को किन्ही समस्याओं की आशंका हो, तो गर्भाधान से पहले उन्हें दूर कर लेना बेहतर है।

यौन संचारित रोगों (एस.टी.डी.) के लिए स्क्रीनिंग टेस्ट

डॉक्टर आपको यौन संचारित रोगों (एस.टी.डी.) के लिए भी स्क्रीनिंग जांच करवाने के लिए कह सकती हैं, इनमें शामिल हैं:

  • हैपेटाइटिस बी
  • क्लेमाइडिया
  • सिफिलिस
  • एच.आई.वी.

गर्भाधान से पहले इन रोगों का उपचार करवाने से आपकी सफल गर्भावस्था की संभावना बढ़ जाती है।

सर्वाइकल स्मीयर

पता करें कि आपने पिछली बार सर्वाइकल स्मीयर टेस्ट कब करवाया था। यदि अगला टेस्ट आने वाले एक साल में करवाना देय है, तो उसे अभी करवा लें। स्मीयर जांच सामान्यत: गर्भावस्था में नहीं कराई जाती है। ऐसा इसलिए, क्योंकि गर्भावस्था की वजह से आपकी ग्रीवा में बदलाव आ सकते हैं, जिससे परिणामों को समझ पाना मुश्किल हो सकता है।

क्या गर्भवती होने से पहले मुझे कोई टीकाकरण करवाना होगा?

कई निवारण योग्य संक्रमण गर्भपात या जन्म दोष पैदा कर सकते हैं, इसलिए सुनिश्चित करें कि आपने सभी जरुरी टीके लगवाए हुए हैं। अगर, टीकाकरण के बारे में आप विश्वस्त नहीं हैं, तो एक आसान रक्त जांच से पता चल जाएगा कि आप रुबेला (जर्मन मीजल्स) आदि रोगों के खिलाफ प्रतिरक्षित हैं या नहीं।

अगर, आपको जीवित विषाणु का टीका लगवाने की जरुरत हो, जैसा कि रुबेला के लिए होता है, तो फिर आपको टीकाकरण के बाद गर्भाधान के लिए एक महीना इंतजार करना पड़ेगा। यह एक एहतियाती कदम है, क्योंकि माना जाता है कि शरीर को इंजेक्शन द्वारा अंदर डाले गए विषाणु से छुटकारा पाने के लिए समय चाहिए होता है।

आप छोटी माता (चिकनपॉक्स) के खिलाफ भी टीका लगवाने पर विचार कर सकती हैं। अगर चिकनपॉक्स आपको पहली बार गर्भावस्था में होता है, तो यह गर्भस्थ शिशु के लिए परेशानी पैदा कर सकता है। मगर, यदि आपको बचपन में यह आम बीमारी हो चुकी है, तो आप इसके प्रति पहले से ही प्रतिरक्षित होंगी।

अगर आप हैपेटाइटिस बी के उच्च जोखिम समूह में आती हैं, तो आप इस रोग के खिलाफ भी टीका लगवा सकती हैं।

साथ ही, अपनी डॉक्टर से बात करें कि आपको टिटनस बूस्टर टीका लगवाने की जरुरत है या नहीं। टिटनस टॉक्साइड (टी.टी.) टीका गर्भावस्था में दिया जाता है, ताकि आपको और आपके शिशु को टिटनस से बचाया जा सके।

क्या मुझे गर्भाधान से पहले कोई अनुपूरक लेने चाहिए?

आप जैसे कि माँ बनने का निर्णय लेती हैं, तभी से आपको पांच मि.ग्रा. फॉलिक एसिड अनुपूरक (सप्लीमेंट) रोजाना लेना शुरु करना चाहिए। फॉलिक एसिड लेने से न्यूरल ट्यूब दोषों जैसे कि स्पाइना बिफिडा आदि का खतरा काफी हद तक कम हो जाता है।

गर्भावस्था के शुरुआती हफ्तों में पर्याप्त फॉलिक एसिड लेना विशेषतौर पर जरुरी है। उस दौरान शायद आपको अपने गर्भवती होने के बारे में पता भी न हो। शुरुआती हफ्तों में आपके शिशु का दिमाग और तंत्रिका प्रणाली तेजी से विकसित होती है।

साथ ही, अपनी डॉक्टर को निम्नांकित स्थितियों के बारे में भी बताएं, यदि:

  • आपके परिवार में न्यूरल ट्यूब दोषों का इतिहास रहा है
  • आपको मधुमेह है
  • आपको सिलिएक रोग है
  • आप मिर्गी की दवाई लेती हैं
  • आपका बॉडी मास इंडेक्स (बी.एम.आई.) 23 से ज्यादा है

आपके गर्भवती होने के बाद डॉक्टर आपकी सेहत को देखते हुए अतिरिक्त अनुपूरक लेने की सलाह भी दे सकती हैं।

धूम्रपान, शराब या ड्रग्स की आदतों का क्या होगा?

धूम्रपान, शराब और अवैध ड्रग्स का सेवन आपके शिशु के लिए स्वास्थ्य समस्याएं पैदा कर सकता है और इनसे गर्भपात का खतरा भी बढ़ जाता है। इसलिए बेहतर है गर्भावस्था का पता चलने से पहले, अभी ही इन्हें छोड़ दिया जाए।

आपकी डॉक्टर गर्भाधान से पहले आपकी इन आदतों को छुड़वाने के लिए सलाह दे सकती हैं, या ऐसे सहयोग समूह के बारे में बता सकती हैं, जो आपकी मदद करें।

जानकार इस बात को लेकर आश्वस्त नहीं है कि कितनी मात्रा में शराब का सेवन गर्भस्थ शिशु के लिए सुरक्षित है। हालांकि, यदि आप माँ बनने की तैयारी में हैं, तो आपको शराब पूरी तरह छोड़ देनी चाहिए।

अगर आप फिर भी शराब पीना चाहें, तो सप्ताह में एक या दो बार एक या दो यूनिट से ज्यादा न पीएं। कभी भी नशे में धुत्त न हों। अगर, आपको लगता है कि शराब सेवन की मात्रा कम करने में आपको मदद चाहिए, तो अपनी डॉक्टर से बात करें।

यदि आप अवैध ड्रग्स लेती हैं, तो डॉक्टर आपको अतिरिक्त सहयोग के लिए सुझाव दे सकती हैं, ताकि शिशु के जीवन की सेहतमंद शुरुआत हो सके।

अगर, आपको अपने सभी टेस्ट और टीकाकरण की जानकारी रखनी है, तो हमारी गर्भाधान से पहले शारीरिक तैयारी की सूची का प्रिंट ले सकती हैं।

शिशु के जन्म के लिए केवल शरीर को ही तैयार नहीं करना होता। यहां पढ़ें की जीवनशैली में क्या बदलाव करने सही रहेंगे।

Leave a Comment